UPTET Bal Vikas Evam Shiksha Shastra Vyaktigat Vibhinta Study Material

UPTET Bal Vikas Evam Shiksha Shastra Vyaktigat Vibhinta Study Material : आप सभी अभ्यर्थी आज की पोस्ट में UPTET Books and Notes Bal Vikas Evam Shiksha Shastra Chapter 10 व्यक्तिगत विभिन्नताएँ Study Material in Hindi में पढ़ने जा रहे है | अभ्यर्थी UPTET Chapter 10 व्यक्तिगत विभिन्नताएँ in Hindi PDF में भी Free Download कर सकते है |

UPTET Bal Vikas Evam Shiksha Shastra Book in Hindi PDF Download

Download Any Book for Free PDF BA B.Sc B.Com BBA

M.Com Books & Notes Semester Wise PDF Download 1st 2nd, Year

CCC Books & Notes Study Material in PDF Download

RRB Group D Book & Notes Previous Year Question Paper in PDF Download

B.Com Books & Notes for All Semester in Hindi PDF Download

BA Books Free Download PDF 2022 in Hindi

UPTET Bal Vikas Evam Shiksha Shastra Vyaktigat Vibhinta Study Material
UPTET Bal Vikas Evam Shiksha Shastra Vyaktigat Vibhinta Study Material

व्यक्तिगत विभिन्नताएँ | UPTET Bal Vikas Evam Shiksha Shastra Chapter 10 Study Material in Hindi

वैयक्तिक भिन्नताओं का अध्ययन सर्वप्रथम गाल्टन (Galton) ने प्रारम्भ किया. इनके यह अध्ययन वैज्ञानिक थे। वैयक्तिक भिन्नताओं के ही कारण एक व्यक्ति हजारों रुपये रोज कमाता है और दूसरे केवल कुछ रुपये भी कमाने में असमर्थ होते हैं, क्योंकि प्रत्येक व्यक्ति की शारीरिक और मानसिक योग्यताएँ समान न होकर भिन्न-भिन्न होती हैं। स्किनर (Skinner) के अनुसार, “आजकल वैयक्तिक भिन्नताओं के अध्ययन में व्यक्ति के सम्पूर्ण व्यक्तित्व के किसी भी मापने योग्य पहलू को सम्मिलित किया जाता है।”

जेम्स ड्रेवर के अनुसार, “एक समूह के सदस्यों में समूह के औसत से मानसिक या शारीरिक विशेषताओं का विचलन ही वैयक्तिक भिन्नताएँ हैं।

वैयक्तिक भिन्नताओं का विस्तार Range of Individual Differences

वैयक्तिक भिन्नताओं के विस्तार से अभिप्राय है कि सर्वाधिक मात्रा में अच्छे कौशल वाले व्यक्ति तथा सबसे कम मात्रा में कौशल वाले व्यक्ति में कितना अंतर होता है। औद्योगिक मनोविज्ञान में वैयक्तिक भिन्नताओं के विचार का अभिप्राय है कि निम्न लक्षण वाले और श्रेष्ठ लक्षण वाले कर्मचारी में क्या अंतर है?

> हल (Hull) ने अपने एक अध्ययन में 107 हाई स्कूल के छात्रों को चुना। इनसे उसने 35 मानकीकृत परीक्षण भरवाए। परीक्षण के परिणामों के आधार पर उसने श्रेष्ठ कौशल वाले और निम्न कौशल वाले छात्रों को छाँटकर दो समूहों में विभाजित किये। निम्न कौशल वाले और श्रेष्ठ कौशल वाले छात्रों में इसे जो अनुपात प्राप्त हुए, वह इस प्रकार है–1 : 1.2, 1 : 3, 1 : 5.2, 1 : 5.7, 1 : 7.6, 1 : 19 आदि । सभी परीक्षणों के आधार पर औसत अनुपात 1: 5.2 प्राप्त हुआ।

वेश्लर (Wechsler) ने अपने अध्ययनों के आधार पर यह अनुपात 2 : 1 का प्राप्त किया। वेश्लर ने अपने अध्ययनों में मानकीकृत मानसिक परीक्षणों का उपयोग किया। औद्योगिक मनोविज्ञान के क्षेत्र में श्रेष्ठ और निम्न में 2 : 1 का अनुपात माना जाता है।

वैयक्तिक विभिन्नता के प्रकार या क्षेत्र Kinds or Areas of Individual Difference

व्यक्ति के जीवन के भिन्न-भिन्न क्षेत्रों में वैयक्तिक विभिन्नता (Individual Difference) पायी जाती है। अतः वैयक्तिक विभिन्नता के कई प्रकार हैं-

एक ऐसी विभिन्नता के इसके लिए किसी विशेष होती है। एक ही उम्र के बालक

नारीरिक विकास (Physical Development): शारीरिक विकास में विभिन्नता वभिन्नता है जिसका प्रत्येक व्यक्ति स्पष्ट रूप से प्रत्यक्षण कर सकता है। । किसी विशेष उपकरण (Apparatus) या विशेष प्रशिक्षण की जरूरत नहीं की उम्र के बालकों के शारीरिक विकास एवं परिपक्वता में स्पष्ट अंतर मिलता है। शिक्षकगण इस तरह के ज्ञान का विशेष फायदा शिक्षा के शिक्षण (Classroom Teaching) में उठा सकते हैं।

मानसिक विकास (Mental Development): वैयक्तिक विभिन्नता का दूसरा क्षेत्र मानसिक विकास है। फ्रीमैन तथा फ्लोरी (Freeman & Flory) द्वारा किये अध्ययन से यह स्पष्ट हो गया है कि स्कूल के छात्रों की बुद्धि का मापन करने में में सामान्यता की विभिन्नता (Difference of Normality) पायी जाती है। कछ ही ऐसे बच्चे होते हैं जो तेज बुद्धि के अर्थात जिनकी बुद्धिलब्धि (IQ) 120 या इससे ऊपर होती है और उसी ढंग से कुछ ही व्यक्ति ऐसे होते हैं जो मन्द बुद्धि के अर्थात जिनकी बुद्धि स्तर 90 से नीचे होती है। अधिकतर छात्रों की बुद्धिलब्धि 100 से 110 के बीच होती है।

(c) सांवेगिक विभिन्नता (Emotional Differences): बालकों में सांवेगिक विभिन्नता पायी जाती है। कुछ बालकों में क्रोध, भय, डाह आदि जैसे संवेग अधिक होते हैं तो कुछ बालकों में इन संवेगों की कमी पायी जाती है। कुछ बालकों में स्नेह, प्यार आदि जैसे संवेग की प्रधानता होती है, तो कुछ बालकों में सहानुभूति तथा दूसरों की भलाई के भाव (Altruism) की प्रधानता होती है।

(d) सामाजिक विकास (Social Development): सामाजिक विकास में भी बालकों में स्पष्ट विभिन्नता पायी जाती है। कुछ बालक अधिक संकोचशील होते हैं तो कुछ बालक साहसी एवं बहादुर होते हैं। कुछ बालक कक्षा के नेतृत्व को अपने दामन में समेटना पसंद करते हैं तो कुछ बालक इसे सिरदर्द समझकर अपना दामन छुड़ाना चाहते है। सामाजिक परिस्थिति समान रहने पर भी विभिन्न बालकों द्वारा विभिन्न तरह की सामाजिक प्रतिक्रियाएँ की जाती हैं।

(e) उपलब्धियों में अंतर (Difference in Achievements): बालको या छात्रों की उपलब्धियों में कई कारणों से विभिन्नता पायी जाती है। एक ही उम्र, एक ही बुद्धि एवं एक ही कक्षा में पढ़ने वाले छात्रों की शैक्षिक उपलब्धियाँ हमेशा समान नहीं होती हैं। कुछ स छात्र की शैक्षिक उपलब्धियाँ काफी अधिक होती हैं तो कुछ ऐसे छात्र की शैक्षिक “यचा काफी कम होती हैं, ऐसे छात्रों की शैक्षिक उपलब्धियों में अंतर का प्रमुख उनका अभिरुचि (Interest). प्रेरणा (Motivation) तथा अभ्यास (Iractice) में अंतर होता है।

(1) भाषा विकास (Language Devers भाषा-विकास के क्षेत्र में भी पाया जाता स (Language Development): बालकों में वैयक्तिक विभिन्नता विकसित होती है तो कुछ म होती है। कुछ बालकों में लिखने, बोलने तथा समझने की शक्ति अधिक ता है तो कुछ में कम होती है। इस कारण से भी समान उम्र एवं बुद्धि के का शैक्षिक उपलब्धि में अंतर हो जाता है।

(g) ज्ञानात्मक तथा क्रियात्मक क्षमताओं में अंतर (Differences in Cognitive and Motor Capacities) : कुछ छात्रों में क्रियात्मक नियंत्रण (Motor Control) तथा ज्ञानात्मक क्रियात्मक समन्वय (Cognitive-Motor Co-ordination) की क्षमता अधिक होती है, जबकि कुछ छात्रों में ऐसी क्षमताएँ सामान्य होती हैं। इसका परिणाम यह होता है कि कुछ छात्र उन कार्यों में अधिक श्रेष्ठ होते हैं जिनमें ज्ञानात्मक क्रियात्मक समन्वय की अधिकता होती है।

(h) व्यक्तित्व विभिन्नता (Differences in Personality) बालकों के व्यक्तित्व में भी विभिन्नता  यी जाती है। कुछ बालक अन्तर्मुखी (Introvert) होते हैं तो कुछ बहिर्मुखी (Extrovert) होते हैं। कुछ में नेतृत्व संबंधी गुण अधिक होते हैं तो कुछ में अनुयायी बनने के गुण अधिक होते हैं।

(i) अभिरुचियों एवं अभिक्षमताओं में विभिन्नता (Differences in Interests and Aptitudes) : कुछ छात्रों की यांत्रिक अभिक्षमता (Machanical Aptitude) अधिक विकसित होती है, तो कुछ छात्रों की संख्यात्मक अभिक्षमता (Numerical Aptitude) अधिक विकसित होती है। इस तरह छात्रों में विभिन्नता अभिक्षमता एवं अभिरुचि के आधार पर भी होता है।

NIELIT O Level Previous Year Question Papers With Answers PDF

UPTET and CTET All Books Notes Study Material in Hindi English PDF Download

LLB Books & Notes Study Material For All Semester 1st 2nd 3rd Year

CTET Previous Year Question Paper in PDF Download

MBA Books & Notes for All Semester 1st Year

B.Com Books & Notes for All Semester in PDF 1st 2nd 3rd Year

वैयक्तिक विभिन्नता के कारण Causes of Individual Difference

वैयक्तिक विभिन्नता के कारण निम्नलिखित हैं-

(a) आनुवंशिकता (Heredity) : वैयक्तिक विभिन्नता का एक प्रमुख कारण आनुवंशिकता होती है। बुद्धिमान एवं उत्तम शील-गुण वाले माता-पिता के बच्चों में भी उत्तम शीलगुण होते हैं तथा उनका भी बुद्धि-स्तर श्रेष्ठ होता है। मन्द बुद्धि वाले माता-पिता के बच्चों में भी वैसे ही गुण विकसित हो जाते हैं। इसका कारण स्पष्टतः आनुवंशिकता है।

(b) वातावरण (Environment) : वातावरण में भौतिक वातावरण (Physical Environment)तथा सामाजिक वातावरण (Social Environment)का प्रभाव वैयक्तिक विभिन्नता पर सर्वाधिक पड़ता है। जिस देश के भौतिक वातावरण में ठंड की प्रधानता होती है वहाँ के लोग अधिक फुर्तीले एवं गोरे होते हैं। दूसरी तरफ गर्म वातावरण के लोगों में आलसीपन अधिक होता है एवं उनका रंग भी श्याम होता है। – उसी तरह यदि बालक ऐसे परिवार से आता है जिसे सामाजिक रूप से सबल कहा

जाता है तो उसका आचरण, चरित्र एवं व्यक्तित्व, शीलगुण वैसे बालकों से भिन्न होता है जो सामाजिक रूप से दुर्बल परिवार से आते हैं।

(c) आर्थिक स्थिति एवं शिक्षा (Economic Condition and Education) : बालकों में विभिन्नता का एक कारण आर्थिक स्थिति है। आर्थिक स्थिति अच्छा नहीं होने से बालकों का शारीरिक स्वास्थ्य एवं मानसिक स्वास्थ्य दोनों ही प्रभावित हो जाता है। शिक्षा से बालकों में विभिन्नता आती है। शिक्षा से सिर्फ बालकों के ही व्यवहार में विभिन्नता नहीं आती है बल्कि वयस्कों के भी व्यवहार में विभिन्नता आती है।

परिपक्वन (Maturation) : वैयक्तिक विभिन्नता का एक कारण परिपक्वन बालक शारीरिक एवं मानसिक रूप से अधिक परिपक्व होते हैं तथा हो में शारीरिक एवं मानसिक परिपक्वन अपनी उम्र के अनुसार जितनी होनी में अंतर है। कुछ बालक कुछ बालकों में भी चाहिए उतनी नहीं होती है। प्रमुख कारण प्रजाति एवं राष्ट्रीय ति एवं राष्ट्रीयता (Race and Nationality) वैयक्तिक विभिन्नता का एक प्रजाति एवं राष्ट्रीयता है। विभिन्न प्रजाति के बालकों के शारीरिक, मानसिक. संवेगात्मक विकास में कुछ-न-कुछ विभिन्नता अवश्य देखने को मिलती है। राष्ट्र से भी बालकों की आदत, शीलगुण, चरित्र आदि में विभिन्नता पायी जाती है।

लिंग (Sex) वैयक्तिक विभिन्नता का एक प्रमुख स्रोत लिंग होता है। लड़के भारीरिक रूप से अधिक सबल एवं मजबूत होते हैं जबकि लड़कियाँ शारीरिक रूप से एवं मलायम मांसपेशियों वाली होती है। लिंग-भिन्नता के कारण लड़के अधिक मी एवं आक्रामक स्वभाव के होते हैं जबकि लड़कियों में सहनशीलता ज्यादा होती है तथा उनमें क्रोध काफी कम होता है।

(g) आयू एवं बुद्धि (Age and Intelligence): वैयक्तिक विभिन्नता का एक कारण व्यक्ति की आय एवं बुद्धि है। जैसे-जैसे व्यक्ति की आयु बढ़ती जाती है उसका शारीरिक कद भाषा-विकास, सामाजिक विकास एवं मानसिक विकास भी अधिक होता जाता है और स्पष्ट रूप से वैयक्तिक विभिन्नता पायी जाती है। वैयक्तिक विभिन्नता के अध्ययन की विधियाँ Methods of Studying Individual Differences

मनोवैज्ञानिकों ने वैयक्तिक विभिन्नता का अध्ययन करने के लिए कई विधियों का प्रतिपादन किया, जो इस प्रकार है

 (a) बुद्धि-परीक्षण (Intelligence Test) बुद्धि के आधार पर बालकों में स्पष्ट विभिन्नता पायी जाती है। अतः बुद्धि मापकर बद्धि के ख्याल से होनेवाली वैयक्तिक विभिन्नता को माप सकते हैं। मनोवैज्ञानिकों ने अनेक तरह के बुद्धि-परीक्षण का निर्माण किया है।

सामान्यतः बुद्धि-परीक्षणों से प्राप्तांकों (Scores)के आधार पर बुद्धिलब्धि (Intelligence Quotient) ज्ञात करते हैं और इस बद्धिलब्धि के आधार पर स्पष्ट रूप से हम पालका को बौद्धिक विभिन्नता के अंतर का अध्ययन कर पाते हैं। मामलाच परीक्षण (Interest Test): अभिरुचि परीक्षण के आधार पर भी बालको क विभिन्नता का अध्ययन आसानी से किया जाता है। अभिरुचि के ख्याल से काफी विभिन्नता पायी जाती है। कुछ बालकों की अभिरुचि कुछ खास-खास क होती है जबकि अन्य दूसरे विषयों में उनकी अभिरुचि कम होती है।

क्षण (Achievement Test): बालक में वैयक्तिक विभिन्नता का बात उपलब्धि, विशेषकर शैक्षिक उपलब्धि होती है। शैक्षिक उपलब्धि को विभिन्नता की मात्रा का अंदाज लगा सकते है। नका ने विभिन्न विषयों में शैक्षिक उपलब्धि की माप के लिए अलग-अलग आधार पर हम छात्रों में शैक्षिक उपलब्धि के ख्याल से होनेवाली विभिन्नता का मापन कर सकते हैं।

(d) व्यक्तित्व परीक्षण (Personality Test): छात्रों के व्यक्तित्व शीलगुणों में स्पार विभिन्नता होती है, जिसका अध्ययन विभिन्न तरह के व्यक्तित्व परीक्षणों के आधार आसानी से किया जाता है।

(e) संवेग परीक्षण (Test of Emotion) बालकों की वैयक्तिक विभिन्नता का अध्यय संवेग परीक्षण के आधार पर भी किया गया है। विशेष परीक्षणों एवं उपकरणों के माध्या से बालकों की संवेगात्मकता के स्तर का मापन करके यह आसानी से सुनिश्चित किया जा सकता है कि कौन बालक संवेगात्मक रूप से अधिक स्थिर है तथा कौन बालक संवेगात्मक रूप से कम स्थिर है।

(0) अभिक्षमता परीक्षण (Aptitude Test): मनोवैज्ञानिक ने कई तरह के अभिक्षमता परीक्षणों का निर्माण किया है। इन अभिक्षमता परीक्षणों के माध्यम से यह आसानी से सुनिश्चित कर लिया जाता है कि बालकों में अमुक अभिक्षमता के विचार से कितन विभिन्नता है। इसका विशेष फायदा शिक्षकों को होता है। शिक्षक उसी के अनुसार बालकों के शिक्षण दिये जाने का स्तर तय करते हैं।

वैयक्तिक विभिन्नता के अध्ययन का शिक्षा में महत्व Importance of Study of Individual Difference in Education

वैयक्तिक विभिन्नता के अध्ययन का शिक्षा में निम्नलिखित महत्व है-

(a) समूहीकरण या वगीकरण (Grouping or Classification) : उचित शिक्षा के लिए यह आवश्यक है कि छात्रों का अलग-अलग समूहीकरण या वर्गीकरण किया जाय वर्तमान में छात्रों के बुद्धि के आधार पर समूहीकरण किया जाता है। इस प्रकार के समूह यदि बुद्धि के अलावा अन्य कारकों जैसे अभिरुचि (Interest), अभिक्षमता (Aptitude C आदि के समरूप बना लिया जाता है, तो इस परिस्थिति में दी गई शिक्षा और अधिक उत्तम होगी।

(b) अध्यापन विधियाँ (Methods of Teaching): शिक्षकों को चाहिए कि अध्यापन विधियों का चयन छात्र की श्रेणी के अनुसार करें। तीव्र बुद्धि के छात्रों को पढ़ाने के विधि कम बुद्धि के छात्रों को पढ़ाने की विधि से भिन्न होनी चाहिए।

(c) पाठ्यक्रम (Curriculum): शिक्षकों को विभिन्न समूहों के छात्रों के लिए एक समान पाठ्यक्रम (Curriculum) नहीं बनाकर उस समूह की बुद्धि, अभिरुचि एव अभिक्षमता (Aptitude) के अनुकूल पाठ्यक्रम तैयार करना चाहिए। इससे छात्रों क अधिक-से-अधिक लाभ होगा।

(d) गृह कार्य का दिया जाना (Assignment of Home Task): शिक्षक छात्रों को ग ह-कार्य देते हैं। गृह कार्य देते समय वैयक्तिक विभिन्नता का ज्ञान शिक्षक के लिए विशेष  उपयोगी सिद्ध होता है। गृह कार्य देते समय शिक्षक छात्र की बुद्धि, अभिक्षमता, रुझान का स्तर एवं उसकी घरेलू परिस्थितियों को यदि ध्यान में रखते हैं तो इससे शिक्षक ठीक मात्रा में गृह कार्य छात्रों को दे पायेंगे।

(e)व्यवसाय संबंधी शिक्षा (Vocational Guidance): सभी बालकों का रुझान विभिन तरह के व्यवसाय के प्रति समान नहीं रहता है। कोई छात्र किसी अमुक व्यवसाय को अधिक पसंद करता है तो दूसरे छात्र दूसरे तरह के व्यवसाय को अधिक पसंद करता

के विभिन्नता के आलोक (Lustre) में शिक्षकों को चाहिए कि वे छात्रों अधिक पसंद करता है तो कर है। इस वैयक्तिक विभि को शिक्षा दें।

शारीरिक शिक्षा (Phe शिक्षकों को कक्षा में छात्रों के कम दिखाई एवं सुनाई देनेवाले एक  चाहिए अन्यथा वे कक्षा में ही शिक्षा (Physical Differences) : शारीरिक विभिन्नता के अनसार । कक्षा में छात्रों के बैठने का स्थान सुनिश्चित करना चाहिए। छोटे कद तथा एवं सनाई देनेवाले छात्रों को कक्षा में अगले बेंच पर बैठने की व्यवस्था होनी ने कक्षा में दी जानेवाली शिक्षा से अधिक लाभान्वित नहीं हो पायेंगे।

परीक्षोपयोगी तथ्य

जानिक विभिन्नता से तात्पर्य एक ऐसी मनोवैज्ञानिक घटना से होता है जो उन विशेषताओं या शीलगुणों पर बल डालता है जिनके आधार पर वैयक्तिक जीव भिन्न होते दिखाये जाते हैं।

वैयक्तिक विभिन्नता को दो श्रेणी में रखा जा सकता है—व्यक्ति के अंदर विभिन्नताएँ तथा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में विभिन्नता। वैयक्तिक विभिन्नता के महत्वपूर्ण क्षेत्र हैं शारीरिक विकास, मानसिक विकास, सांवेगिक विभिन्नता, सामाजिक विभिन्नता, उपलब्धि में अंतर, भाषा-विकास, अभिरुचियों एवं अभिक्षमता में अंतर, यौन विभिन्नताएँ, व्यक्तित्व विभिन्नता तथा ज्ञानात्मक एवं क्रियात्मक क्षमताओं में अंतर ।

 > वैयक्तिक विभिन्नता के कई कारण हैं जिनमें आनुवंशिकता, वातावरण, प्रजाति एवं राष्ट्रीयता, आयु एवं बुद्धि, परिपक्वता, लिंग तथा आर्थिक स्थिति एवं शिक्षा प्रधान हैं। ति वैयक्तिक विभिन्नता के अध्ययन की विधि है—बुद्धि-परीक्षण, उपलब्धि परीक्षण, संवेग परीक्षण, अभिरुचि परीक्षण, अभिक्षमता परीक्षण एवं व्यक्तित्व परीक्षण।

Download UPTET Bal Vikas Evam Shiksha Shastra Books and Notes Chapter 10 व्यक्तिगत विभिन्नताएँ in Hindi PDF

व्यक्तिगत विभिन्नताएँ in PDFDownload

Follow On Facebook Page

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*